बासुकिनाथ गुम्मज में लगे ध्वज को उतार कर दूसरा ध्वज चढ़ाया गया, शिवरात्रि के बाद होली के दिन ही चढाया जाता है ध्वज

0 150

दुमका : होली आपसी भाईचारा व रगों का पर्व है । जिसमे क्या बडा या क्या छोटा सभी जाति धर्म के लोग एक साथ मिल कर रंग-गुलाल खेलते है।पंडा धर्म रक्षणी सभा के अध्यक्ष मनोज पंडा ने बताया आज के दिन शिवरात्रि के बाद बासुकिनाथ बाबा के गुम्मज में लगे ध्वज को उतार कर दूसरा ध्वज चढ़ाया जाता है जो कि पूरे वर्ष रहता है।वही पंडित फणी भूषण पाठक ने बताया होलिका के बरदान मिलने के बाद देवतागण काफी दुखी थे। भगवान नारायण भक्त प्रहलाद का बहाना बना कर होलिका का दाह किया ।जिसकी खुशी में होली पर्व मनाते है।आज बाबा फौजदारी ट्रस्ट ने बाबा बासुकिनाथ से पुष्प से होली मनाया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.