आखिर कब तक हम अपने घरों से उठाते रहेंगे अर्थी : बालकृष्ण यादव

0 221

टंडवा। उत्तरी छोटानागपुर का क्षेत्र कोल वाहनों की दहशत से दहल उठा है आम लोगो का सड़को पर चलना दूभर हो गया है ।सुबह हो शाम या दोपहर कोल वाहनों की दहशत से लोग चैन खो चुके है ।कोई भी सिस्टम नही इनके परिचालन का जिससे जनता त्रस्त है । अहले सुबह बड़कागांव के राजाबागी में सड़क दुर्घटना में कोयला ट्रांसपोर्ट वाहन के चपेट में आने से एक किशोर की मौत पर हिन्दू युवा वाहिनी के बालकृष्ण यादव अपनी बात आवाज से साझा किया ।बताया कि ने जिन्होने अपने जिन्दगी को सही से जीना भी शुरू नहीं किया था वह काल के गाल में समा गया आखिर उस किशोर युवक दोष क्या थी सिर्फ यह की वह अहले सुबह सड़क पर अपने रोजमर्रा की पुर्ति के लिए रोडपर निकलता है,आखिरकार टंडवा, केरेडारी,बड़कागांव के आम जनता,विस्थापित जनता जिन्होने अपने जमीन को इन बड़े बड़े परियोजनाओं को देश के विकास के लिए दे दिया लेकिन क्या इन ग्रामीण विस्थापितों की विकास व सुरक्षा,संवर्धन की जिम्मेवारी प्रशाषण व झारखण्ड सरकार की नहीं है । और यदि है तो 6-7 वर्षों से सभी मंत्री से लेकर संत्री तक जनप्रतिनिधि से लेकर मुख्यमंत्री तक क्यों मुकदर्शक बने हुए हैं। आखिर सरकारी तंत्र सिर्फ राजस्व बढ़ाने पर जोर दिए हुए है तो क्या राजस्व के लिए सरकार इतनी अंधी हो गई है की सत्ता का संचालन कर रहे सत्ताशीनों,जिले से लेकर राज्य के बड़े से बड़े अधिकारी जिनको हमारे पैसों से वेतन दिया जाता है,उन्हें निर्दोष लोगों की चीखें सुनाई नहीं पड़ रही हैं । और आखिर जब सरकारों को हमारी मृत्यु से भी आंखे नहीं खुल रही हैं तो हम जनता कबतक शांत रहकर न्याय का इंतजार करते रहेंगे, क्यों नहीं इन परियोजनाओं से सरकारों से अपने हक के लिए आर या पार का ऐलान करते हुए झारखंडी उलगुलान की बिगुल फुंका जाय फिर जब हम मुगलों से अंग्रजों से अपना अधिकार ले सकते हैं तो वर्तमान में अंग्रेजों के पद्घति पर चल रही वर्तमान सिस्टम से क्यों।

Leave A Reply

Your email address will not be published.