पुलवामा हमले पर रूस ने फिर जताया समर्थन, आपसी सैन्य सहयोग बढ़ाने पर जोर

0 46

नई दिल्ली। रूस ने पुलवामा हमले के बाद भारत के साथ आपसी सहयोग पर बल दिया है। रूस ने एक बार फिर से भारत का समर्थन किया है। रूस के रूसी रक्षा मंत्री ने भारतीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से फोन पर बातचीत की और कहा कि वह पुलवामा हमले के बाद पीड़ित परिवारों के साथ हैं। उन्होंने कश्मीर में पुलवामा आतंकी हमले पर भी अपनी संवेदना व्यक्त की जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए थे । बता दें कि इस हमले के बाद रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने भी पीएम मोदी को फोन किया था और इस हमले में शहीद होने वाले जवानों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की थी।

आपसी सहयोग पर बल

भारतीय समकक्ष निर्मला सीतारमण के साथ बातचीत में रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोयगू ने आपसी सहयोग बढ़ने पर बल दिया। सर्गेई शोयगू ने भारत-रूस रक्षा संबंधों को मजबूत करने के बारे में भी बात की। उन्होंने 14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले पर भी शोक व्यक्त किया।रूसी रक्षा मंत्री ने रभारत-रूस सैन्य सहयोग को मजबूत करने के दृढ़ संकल्प को फिर से दोहराया।रक्षा मंत्री के आधिकारिक ट्विटर हैंडल के मुताबिक, “रक्षामंत्री जनरल ने निर्मला सीतारमण को फोन किया। उन्होंने पुलवामा हमले के लिए संवेदना व्यक्त की और भारत-रूस सैन्य सहयोग (एसआईसी) 

अहम है बातचीत

आपको बताते चलें कि भारत और पाकिस्तान के बीच हालिया बढ़ते तनाव की पृष्ठभूमि में दोनों रक्षा मंत्रियों के बीच यह बातचीत बेहद अहम है। इन दिनों भारत हर तरफ से पाकिस्तान को घेरने में लगा हुआ है। इस मुहीम में भारत को सफलता भी मिलती दिख रही है। आपको बता दें कि पुलवामा हमले में कम से कम 40 अर्धसैनिक बल के जवान मारे गए, जिसके बाद भारतीय वायु सेना ने एक काउंटर ऑपरेशन शुरू किया और नियंत्रण रेखा के पार जैश प्रशिक्षण शिविरों पर हमला किया। पाकिस्तान ने भी भारतीय हवाई क्षेत्र की घुसपैठ का जवाब दिया, लेकिन भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों द्वारा पीछा किये जाने पर वह भाग खड़े हुए। उसके बाद विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान को पाकिस्तान पर बढ़ते राजनयिक दबाव के चलते तीन दिनों के बाद शुक्रवार को रिहा कर दिया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.