CBI ने कोर्ट से बोफोर्स की दोबारा जांच करने की इजाज़त मांगी

0 104

सीबीआई ने ट्रायल कोर्ट से बोफोर्स की दोबारा जांच करने की इजाज़त मांगी है. बता दें कि इस मामले में सीबीआई ने आगे की जांच करने के लिए रोज़ एवेन्यू कोर्ट, नई दिल्ली में आवेदन करके अनुमित मांगी थी. पर कोर्ट ने कहा कि इस मामले में अनुमति लेने की ज़रूरत नहीं है बल्कि कोर्ट को सूचना दे देना ही काफी है.

दरअसल, कि बोफोर्स कांड का खुलासा 1987 में हुआ था. इसमें तत्कालीन राजीव गांधी सरकार के ऊपर स्वीडने की कंपनी बोफोर्स को भारतीय सेना को तोपें सप्लाई करने के लिए 64 करोड़ रुपये की दलाली लेने का आरोप लगाया गया था. इसके बाद राजीव गांधी की सरकार गिर गई थी.

कथित रूप से स्वीडन के रेडियो ने सबसे पहले 1987 में इसका खुलासा किया था. आरोप था कि राजीव गांधी परिवार के नजदीकी बताए जाने वाले इतालवी व्यापारी ओत्तावियो क्वात्रोक्की ने इस मामले में बिचौलिये की भूमिका अदा की, जिसके बदले में उसे दलाली की रकम का बड़ा हिस्सा मिला. कुल चार सौ बोफोर्स तोपों की खरीद का सौदा 1.3 अरब डालर का था. आरोप है कि स्वीडन की हथियार कंपनी बोफोर्स ने भारत के साथ सौदे के लिए 1.42 करोड़ डॉलर की रिश्वत बांटी थी.

(विस्तृत समाचार का इंतज़ार है…)

Leave A Reply

Your email address will not be published.